कानूनी निगरानी कक्ष (एलएमसी)

एमओई​​एफ > प्रभाग > स्थापना प्रभाग > कानूनी निगरानी कक्ष (एलएमसी) > एलएमसी के अधीन काम चल रहा है

मामलों की प्राप्ति और आवंटन:

  • सीआर सेक्शन / सुविधा काउंटर द्वारा अदालती मामलों की प्राप्ति पर, मामलों को तब एलएमसी को भेजा जाता है।
  • एलएमसी मामले की प्रारंभिक छानबीन पर, मामले के विषय के आधार पर संबंधित डिवीजन को समान करता है।
  • डिवीजन द्वारा प्राप्त किए जाने के बाद आवश्यक कार्रवाई डिवीजन द्वारा ही की जाती है, हालांकि मामले की सामान्य निगरानी और पर्यवेक्षण एलएमसी द्वारा किया जाता है, यदि आवश्यक हो।

मामलों का समय पर आवंटन

  • मामलों को त्वरित प्रक्रिया सुनिश्चित करने और मामलों के प्रभावी निपटान के लिए बिना किसी देरी के संबंधित प्रभागों को दिन-प्रतिदिन के आधार पर चिह्नित किया जाता है।
  • संक्षिप्त ट्रांसमिशन फॉर्म (बीटीएफ) एलएमसी द्वारा पूरे भारत में एनजीटी (पीबी), नई दिल्ली और इसके जोनल बेंचों के लिए एमओईएफ और सीसी के साथ एम्पावर्ड एडवोकेट्स के पक्ष में जारी किए गए हैं।

जवाब दाखिल करने / आदेशों के पालन आदि में निगरानी।

  • एलएमसी के विभिन्न कार्यों में से एक यह सुनिश्चित करना भी है कि वक्र मामलों में जवाब दाखिल किए जा रहे हैं।
  • एलएमसी सुनिश्चित करता है कि आदेश की तारीख से तीन सप्ताह के भीतर जवाब दाखिल किए जा रहे हैं।
  • एलएमसी यह सुनिश्चित करता है कि एमओईएफ&सीसी से संबंधित कोर्ट के मामलों में पारित आदेश या निर्देश संबंधित डिवीजनों के साथ समन्वय करके संकलित किए जा रहे हैं।

उत्तरों और तर्कों आदि की गुणवत्ता की निगरानी।

  • संबंधित मामले को अधिक प्रभावी ढंग से रखने के लिए मंत्रालय में संबंधित प्रभाग अधिवक्ता को प्रत्येक मामले / विषय की संक्षिप्त पृष्ठभूमि प्रदान करता है। पैनल अधिवक्ता द्वारा न्यायालयों में समान दाखिल करने से पहले सक्षम प्राधिकारी द्वारा जवाब / शपथ पत्र स्वीकृत किए जाते हैं।
  • एनजीटी में नियुक्त समर्पित व्यक्ति की सहायता से एलएमसी सुनिश्चित करता है कि तर्क की गुणवत्ता और कार्यवाही का संचालन प्रभावी ढंग से किया जाता है।

दैनिक अद्यतन रिकॉर्ड की निगरानी

  • सहायक (कानूनी) अपने प्रभाग के अदालती मामलों से संबंधित दैनिक आधार पर मामलों के रिकॉर्ड को एलआईएमबीएस में अपडेट करते हैं।
  • एलएमसी द्वारा लंबित मामलों की कुल संख्या, उत्तरों और स्थिति को बताते हुए एलएमसी द्वारा मासिक रिपोर्ट तैयार की जाती है।
  • एलएमसी द्वारा विभिन्न प्रभागों को चिह्नित किए गए मामलों का रिकॉर्ड उसी की प्रभावी निगरानी और पर्यवेक्षण के लिए रखा जाता है।
  • एलएमसी विशेष अदालत के मामले में नियुक्त वकील का रिकॉर्ड भी रखता है।
  • एलएमसी मंत्रालय के विभिन्न प्रभागों में तैनात कानूनी सहायक के कार्यों की निगरानी करता है।