सर्वेक्षण और उपयोग (एसयू)

एमओईएफसीसी > प्रभाग > वन प्रभाग > सर्वेक्षण और उपयोग (एसयू) > परिचय

सभी संघ राज्यो की वानिकी योजनाओ के भौतिक एवं वित्तीय लक्ष्यों की निगरानी, सभी वानिकी विकास निगमों की देखरेख जिसमे उद्योगों को कच्चे माल की आपूर्ति, विभिन्न राज्य वन विभागों से प्राप्त रिपोर्ट पर आधारित आंकड़ो का संकलन शामिल है के उदेश्य से पर्यावरण एवं वन मंत्रालय, भारत सरकार के अधीन सर्वेक्षण और उपयोगिता प्रभाग (एस.यु.) बनाया गया था जिसका मुख्यालय दिल्ली में स्थित है|

प्रभाग अंतर्राष्ट्रीय उष्णकटिबंधीय इमारती लकड़ी संगठन(आईटीटीओ), अंतर्राष्ट्रीय श्रम संगठन ((आईएलओ), व्यापार नीति और श्रम कल्याण जैसे अंतरराष्ट्रीय संगठनों के साथ संपर्क बनाये रखता है. यह वनोपज के अंतरराष्ट्रीय / घरेलू व्यापार के दिशा निर्देश बनाता है, निर्यात और आयात (एक्जिम) नीति के तहत वनोंपज के निर्यात और आयात, सभी गैरइमारती लकड़ी-वनोपज मुद्दों(एनटीएफपी) को विनियमित करता है जिनमे राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड और एमऍफ़पी से संबंधित नीतियाँ और औषधीय पादप संबंधित अदालत मामलों (पीआईएल-202/1995 और 171/1996) से निपटना, देश में इमारती लकड़ी के उत्पादन और निपटान की समीक्षा भी शामिल हैं|

यह अंडमान और निकोबार द्वीप वन बागान एवं विकास लिमिटेड (एएनआईऍफ़पीडीसीएल), पोर्ट ब्लेयर और भारत वन सर्वेक्षण (फारेस्ट सर्वे ऑफ़ इंडिया) देहरादून, से संबंधित प्रशासनिक और अन्य विविध मामलों ,मुख्य रूप से तकनीकी मामलो का देखता है|

प्रभाग का नेतृत्व उप महानिरीक्षक (एसयू प्रभाग) करते हैं और सहायक वन महानिरीक्षक (एसयू प्रभाग ) उनकी सहायता करते हैं|