उद्योगों के लिए दिशानिर्देशों का निर्धारण

औद्योगिक विकास आर्थिक वृद्धि में महत्‍वपूर्ण योगदान करता है। तथापि, औद्योगिक विकास से कई पर्यावरणीय समस्‍याएं भी उत्‍पन्‍न होती हैं। इनमें से कई समस्‍याओं से बचा जा सकता है यदि उद्योगों को पर्यावरणीय निहितार्थों के आधार पर स्‍थापित किया जाए, उद्योगों की अविवेकपूर्ण स्‍थापना से पर्यावरणीय विशेषताओं जैसे वायु, जल, भूमि, वनस्‍पति, जीवजन्‍तु, मानव बस्तियों और मानव स्‍वास्‍थ्‍य पर गंभीर प्रभाव पड़ सकता है। उद्यमियों को इन दिक्‍कतों से पूरी तरह अवगत होना चाहिए और उद्योगों की स्‍थापना करते समय उसे जरूरी कदम उठाने चाहिए ताकि पर्यावरणीय संसाधनों और जीवन की गुणवत्ता पर संभावित प्रतिकूल प्रभावों को न्‍यूनतम किया जा सके। उद्योग की स्‍थापना पश्‍चात् अक्‍सर उद्यमी को प्रदूषण नियंत्रण उपकरण लगाना और अन्‍य उपशमन उपाय करना बहुत मंहगा लगता है। ऐसे निवारक उपाय बाद में उपचारात्‍मक उपाय करने के बजाए उद्योगों की स्‍थापना के समय करने की आवश्‍यकता होती है।




अपलोड किए गए दस्तावेज़ : pdf 39.87 kb

निविदा सीरियल नंबर :

दस्तावेज़ अपलोड की तारीख : 23/05/2012

समाप्ति तिथि :