जलवायु परिवर्तन के संबंध में क्या भारत की घरेलू क्रियाएं पर्याप्त हैं?

भारत ने 20-25 {b9cca8aede1995d450ecb7cabdd9c806c66ba8f7afe5985dcdbcb8cb5055004: 2005 के स्तर की तुलना में उत्सर्जन की तीव्रता में कमी के घरेलू लक्ष्यीकरण की घोषणा की है। हमारे सकल घरेलू उत्पाद की कम ऊर्जा तीव्रता को ध्यान में रखते हुए, कटौती की आगे की क्षमता सीमित है। भारत का योजना आयोग विभिन्न क्षेत्रों और निम्न कार्बन या सतत विकास रणनीति पर अध्ययन के हिस्से के रूप में उनकी क्षमता का अध्ययन कर रहा है। आक्रामक शमन परिदृश्य के तहत, शमन की लागत काफी अधिक हो सकती है और इन आक्रामक लक्ष्यों तक पहुंचने के लिए वित्तीय संसाधन उपलब्ध नहीं हो सकते हैं। 2020 के बाद की व्यवस्था में इस पहलू पर भी विचार किया जाएगा।