• NAME:-

    AMBIKA PRASAD MISHRA
  • EMAIL:-

    CHANCHALMISHRA07071992@GMAIL.COM
  • MOBILE:-

    8756811737
  • ADDRESS:-

    210 MAKSUDAN JIYAPUR LAMBHUA SULTANPUR

Subject:-

पर्यावरण को स्वच्छ बनायें, आओ पेड़ पौधे लगायें।

Story:-

सारी दुनिया में 5 जून को विश्व पर्यावरण दिवस मनाया जाता है। इस दिन लोग स्टाकहोम, हेलसेंकी, लन्दन, विएना, क्योटो जैसे सम्मेलनों और मॉन्ट्रियल प्रोटोकाल, रियो घोषणा पत्र, संयुक्त राष्ट्र पर्यावरण कार्यक्रम इत्यादि को याद करते हैं। गोष्ठियों में सम्पन्न प्रयासों का लेखाजोखा पेश किया जाता है। अधूरे कामों पर चिन्ता व्यक्त की जाती है। समाज का आह्वान किया जाता है। लोग कहते हैं कि इतिहास अपने को दोहराता है। कुछ लोगों का मानना है कि इतिहास से सबक लेना चाहिए। इन दोनों वक्तव्यों को ध्यान में रख पर्यावरण दिवस पर धरती के इतिहास के पुराने पन्नों को पर्यावरण की नजर देखना-परखना या पलटना ठीक लगता है। इतिहास के पहले पाठ का सम्बन्ध डायनासोर के विलुप्त होने से है। वैज्ञानिक बताते हैं कि लगभग साढ़े छह करोड़ साल पहले धरती पर डायनासोरों की बहुतायत थी। वे ही धरती पर सबसे अधिक शक्तिशाली प्राणी थे। फिर अचानक वे अचानक विलुप्त हो गए। अब केवल उनके अवशेष ही मिलते हैं। उनके विलुप्त होने का सबसे अधिक मान्य कारण बताता है कि उनकी सामुहिक मौत आसमान से आई। लगभग साढ़े छह करोड़ साल पहले धरती से एक विशाल धूमकेतु या छुद्र ग्रह टकराया। उसके धरती से टकराने के कारण वायुमण्डल की हवा में इतनी अधिक धूल और मिट्टी घुल गई कि धरती पर अन्धकार छा गया। सूरज की रोशनी के अभाव में वृक्ष अपना भोजन नहीं बना सके और अकाल मृत्यु को प्राप्त हुए। भूख के कारण उन पर आश्रित शाकाहार डायनासोर और अन्य जीवजन्तु भी मारे गए। संक्षेप में, सूर्य की रोशनी का अभाव तथा वातावरण में धूल और मिट्टी की अधिकता ने धरती पर महाविनाश की इबारत लिख दी। यह पर्यावरण प्रदूषण का लगभग साढ़े छह करोड़ साल पुराना किस्सा है।

  • पर्यावरण को स्वच्छ बनायें, आओ पेड़ पौधे लगायें।
  • बोलेगी चिड़िया डाली-डाली, पहले फैलाओ हरियाली।
  • सबको होश में लाना है, पर्यावरण बचाना है।
  • सबको देनी है ये शिक्षा, पर्यावरण की करो सुरक्षा।
  • पर्यावरण को जो न बचायेंगे, तो हम धरा पर न रह पाएंगे।
  • प्रकृति ने आपको जन्म दिया है, ...
  • पर्यावरण का करे सम्मान, ...
  • जो न पर्यावरण बचाओगे,

Download attachment-

Attached images