सामान्य समन्वय

सामान्य समन्वय

निपटाये जाने वाले कार्य की मदें

संयुक्त परामर्शदात्री मशीनरी (जेसीएम) मामले

  1. विभागीय परिषद की बैठकें।
  2. मंत्रालय के सेवा संगमों को मान्यता प्रदान करना और कार्मिक और प्रशिक्षण विभाग (डीओपीटी) से प्राप्त नियमों और विनियमों का परिचालन करना ।
  3. सीजीओ कॉम्प्लैक्स समन्वय समिति से संबंधित मामले।
  4. क्षेत्रीय(जोनल) समितियों से संबंधित मामले।
  5. सचिव (पर्यावरण एवं वन) द्वारा मंत्रालय के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ की जाने वाली साप्ताहिक बैठकों से संबंधित मामले।

पुरस्कार

  1. विभिन्न पुरस्कारों के लिए नामांकन भेजने के संबंध में अन्य मंत्रालयों को प्रत्युत्तर भेजना। निम्नलिखित का समन्वय :-
  2. इस मंत्रालय के अंतर्गत कार्यरत समितियों और बोर्डों से संबंधित साधारण समन्वय।
  3. विद्यमान भारत सरकार (कार्य-अवंटन) नियम, 1961 में आशोधन /समीक्षा के प्रस्तावों से संबंधित समन्वय।

निम्नलिखित का परिचालनः-

  1. विभिन्न मंत्रिमंडल समितियों की संरचना, उत्तरदायित्वों और विभिन्न मंत्रियों द्वारा प्रभार छोड़ने से संबंधित मंत्रिमंडल सचिवालय से प्राप्त पत्रों का परिचालन।
  2. अन्य मंत्रालयों से प्राप्त सामान्य स्वरूप के आदेशों/अनुदेशों का मंत्रालय में तथा इसके संबद्ध/अधीनस्थ कार्यालयों एंव स्वायत्त संगठनों में परिचालन।
  3. व्यय सुधार आयोग (ईआरसी) से सम्बंधित मामलों का समन्वय – गीता कृष्णन समिति (हाल ही में आवंटित।)

अन्य विविध मामले

  1. मंत्रिमंडल सचिवालय को प्रधानमंत्री के विदेश दौरे के समय घटित प्रमुख घटनाक्रमों की जानकारी उपलब्ध कराना।
  2. किसी दूसरे प्रभाग को नहीं सौंपे गए विषय पर अन्य मत्रालयों से प्राप्तं सामान्य प्रकृति के मसौदा मंत्रिमंडल नोट पर टिप्पणियां उपलब्ध कराना।
  3. महत्वपूर्ण दिवसों/सप्ताहों (आतंकवाद-रोधी दिवस, सद्भावना दिवस, वन शहीद दिवस, कौमी एकता सप्ताह, राष्ट्रीय सांप्रदायिक सद्भाव प्रतिष्ठान, सशस्त्र बल झंडा दिवस इत्यादि) का आयोजन।
  4. कार्मिक मामलों, पदों के सृजन/कटौती, स्वैच्छिक सेवा निवृत्ति योजना, विभागीय पदोन्नति समिति के आयोजन में विलंब इत्यादि विषयों पर प्रशासनिक सुधार विभाग को जानकारी प्रस्तुत करना।
  5. देश में प्राकृतिक आपदाओं से प्रभावित लोगों को राहत प्रदान करने के लिए धन एकत्र करना।
  6. मंत्रालय (मुख्य) के दस्तावेजों की जांच के लिए नियुक्त लेखा-परीक्षा दल को संभारतंत्र संबंधी सहायता प्रदान करना।
  7. शोक बैठकों, विदाई समारोहों जैसी कल्याण गतिविधियां इत्यादि।

निम्नलिखित विषयों से संबंधित रिपोर्टों और विवरणियों की प्रस्तुति ।

पाक्षिक विवरणियाँ

  1. केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण में चुनौती दिये गये एसीसी के आदेश- कार्मिक तथा प्रशिक्षण विभाग को।

मासिक विवरणियाँ

  1. एसीसी के आदेशों का कार्यान्वयन – मंत्रिमंडल सचिवालय को।
  2. अभिज्ञात प्रमुख क्षेत्रों की समीक्षा

तिमाही विवरणियाँ

  1. संघ लोक सेवा आयोग के परामर्श के बिना समूह ‘क’ और समूह ‘ख’ श्रेणी के सामान्य पदों पर की गई तदर्थ नियुक्तियां।
  2. केंद्र सरकार के सिविलियन कर्मचारियों के वेतन और विभिन्न प्रकार के भत्तों पर किया गया वास्तिविक व्यय।

छमाही विवरणियॉं

  1. स्रकारी सेवा में अल्पसंख्यक समुदायों की भर्ती की निगरानी।
    वार्षिक विवरणियॉं
  2. स्वयत्त निकायों के सिविलियन कर्मचारियों के वेतन और भत्तों पर किया गया वास्तविक व्यय।
  3. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय में विभिन्न सांविधिक, न्यायिक एवं दूसरी तरह की समितियों तथा अन्य निकायों में गैर-सरकारी व्यक्तियों के चयन विषयक दिशानिर्देश।
  4. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय में विभिन्न सांविधिक, न्यायिक, और दूसरी तरह की समितियों और अन्य निकायों में गैर-सरकारी व्यक्तियों के चयन विषयक दिशानिर्देशों संबंधी उपरोक्त कार्यालय आदेश वेबसाईट http://moef.nic.in/mef/new.gir पर उपलब्ध है।

आंतरिक कार्य अध्ययन एकक (आई डब्ल्यू एस यू) प्रभाग

निपटाये जाने वाले कार्य की मदें

संगठनएवं पद्धति (ओएंडएम इकाई)/आई डब्ल्यू एस एकक के ओएंडएम कार्य।

  1. इंडक्शन सामग्री का अद्यतनीकरण।
  2. विभिन्न अनुभागों/प्रभागों से प्राप्त विवादित आवतियों पर सलाह।
  3. मंत्रालय के विभिन्न अनुभागों/प्रभागों और अन्य कार्यालयों के ओ एंड एम निरीक्षण का वार्षिक कार्यक्रम।
  4. निरीक्षण रिपोर्टों की जांच एवं उन पर अनुवर्ती कार्रवाई / कार्यालय प्रक्रिया मैन्युअल में उल्लिखतानुसार रिकार्ड प्रबंधन, बिलंब रोकने से संबंधित विभिन्न ओ एण्ड एम विवरणियों का एकत्रण।
  5. मामलों के प्रस्तुतिकरण के माध्यम तथा अंतिम निपटान के स्तर के बारे में सार जारी करना।
  6. भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) के परामर्श से मंत्रालय के मूल कार्यों से संबंधित रिकार्ड अनुरक्षण अनुसूचियां बनाना और उनकी समीक्षा करना ।
  7. ओ एंड एम कार्यकलापों से संबंधित मामलों के सिलसिले में प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग के साथ समन्वय।
  8. विकेंद्रीकृत योजना के अंतर्गत अवर श्रेणी लिपिकों/उच्च श्रेणी लिपिकों/डाटा एंट्री आपरेटरों का प्रशिक्षण ।
  9. इस मंत्रालय के विभागीय रिकार्ड कक्ष से संबंधित उत्तरदायित्व ।
  10. प्रशासनिक सुधार और लोक शिकायत विभाग द्वारा प्रारंभ की गई ओएंडएम कार्यकलापों में उत्तम निष्पादन के लिए नकद पुरस्कार जैसी विभिन्न योजनाओं का कार्यान्वयन ।

पद्धति अध्ययन

  1. पद्धति अध्ययनों सहित जनशक्ति की आवश्यकताओं के आकलन के लिए कार्य अध्ययन।
  2. ई-प्रश्नावली।
  3. इस मंत्रालय के अधीनस्थ कार्यालयों / स्वायत्त संस्थाओं के ओ एंड एम निरीक्षण का प्रारूप
  4. आंतरिक कार्य अध्ययन
  5. अनुभागों/ डेस्कों /इकाईयों के ओ एंड एम निरीक्षण का प्रारूप
  6. अभिलेखों / फ़ाइलों की छंटाई
  7. ई-कार्यालय प्रक्रिया का केंद्रीय सचिवालय मैन्युअल
  8. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय के मूल क्रियाकलापों से संबंधित अभिलेखों की अनुरक्षण अनुसूची – सितंबर 2010
  9. अभिलेखों के संबंध में अभिलेख अनुरक्षण अनुसूची – सभी मंत्रालयों/विभागों के लिए समान
  10. कार्यालय प्रक्रिया के केंद्रीय सचिवालय मैन्युअल (सीएसएमओपी)का बारहवां संस्करण
  11. मामलों के प्रस्तुतिकरण के माध्यम और अंतिम निपटान के स्तर के बारे में सार
  12. पर्यावरण एवं वन मंत्रालय की इंडक्शन सामग्री (नोट: विभिन्न प्रभागों से प्राप्त जानकारी के अनुसार 10.02.2012 को आंशिक रूप से संशोधित। अन्य विभागों से जानकारी प्राप्त होते ही और संशोधन किए जाएंगे)

आरटीआई सैल

निपटाये जाने वाले कार्य की मदें

  1. डाक/ आईएफसी काउंटर के माध्यम से आवेदन प्राप्त करना
  2. आरटीआई आवेदन की डायरी करना और उन्हें आवश्यक कार्यवाही के लिए संबंधित अधिकारियों को भेजना।
  3. आईपीओ/डीडी को आवेदन से अलग करके उन्हें भुनाने और धनराशि को मंत्रालय के खाते में जमा करने के लिए आवश्यक कार्यवाही करना।
  4. ऐसे आरटीआई आवेदनों का निपटान करना जो सामान्य प्रकृतिके हैं और इस मंत्रालय के किसी एक अनुभाग/प्रभाग से संबंधित नहीं हैं।
  5. मंत्रालय के विभिन्न अनुभागों/ प्रभागों और अधीनस्थ संगठनों/कार्यालयों से वार्षिक आरटीआई विवरणी के लिए सूचना एकत्रित करना और उसे नियत तारीख तक सीआईसी को भेजना।
  6. आरटीआई अधिनियम से संबंधित कोई अन्य विषय जो मंत्रालय के किसी विशिष्ट प्रभाग/अनुभाग विशेष से संबंधित नहीं हो।